ALL राष्ट्रीय धार्मिक सामाजिक खेल
सोशल डिस्टेंसिग का सख्ती से पालन करें : डॉ कल्ला, ऊर्जा एवं जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी मंत्री ने की अपील
April 3, 2020 • Just Rajasthan Team • राष्ट्रीय

संकट के समय शहर में एकता बनाए रखें : कलक्टर गौतम

धर्म गुरु भी बोले, गंगा जमुनी संस्कृति ही हमारी पहचान, 
बीकानेर फाउंडेशन की ओर से राशन व चारा वितरण प्रारंभ, जिला कलेक्टर ने किया शुभारंभ


 बीकानेर, 3 अप्रैल। ऊर्जा, जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी, कला, साहित्य और संस्कृति मंत्री डॉ बी डी कल्ला ने कहा कि वर्तमान में संपूर्ण विश्व कोरोना महामारी की चपेट में है। राज्य सरकार ने प्रदेश में भी इस खतरनाक बीमारी से निपटने के लिए अनेक प्रभावी कदम उठाए हैं। डॉ कल्ला ने अपील है कि कोरोना से बचाव के लिए सामाजिक दूरी-सोशल डिस्टेंसिग का सख्ती से पालन करें। ऐसे समय में घर में रहकर ही हम सुरक्षित रह सकते हैं। कोरोना का समय पर इलाज करवाना आवश्यक है। अगर किसी व्यक्ति को खांसी, जुकाम, बुखार हो, तो वह तत्काल अपने स्वास्थ्य की जांच करवाए, जरूरी नहीं है कि वह कोरोना से पीड़ित हो। जांच करवाने से उसे तसल्ली हो जाएगी और वह भयमुक्त भी हो जाएगा।  आवश्यकता इस बात की है कि हम सरकार व प्रशासन द्वारा जारी दिशा-निर्देशों की अक्षरशः पालना सुनिश्चित करें। कर्फ्यू के दौरान अपने घरों में ही रहें। हमें बीकानेर की महान् विरासत गंगा-जमुनी संस्कृति की रक्षा करनी है और अपने परिवार, समाज और देश को इस बड़ी आपदा से बचाने में हरसंभव योगदान देना है। कुछ दिनों की ही तकलीफ है, धैर्य से इसका सामना करें, लाॅकडाउन में अपने घरों में ही रहें, जिससे कोरोना को समाप्त किया जा सके।  सरकार के दिशा-निर्देशों की पालना करते हुए, जरूरतमंदों की सहायता भी करें।

संयम और धैर्य का परिचय दें, करें सहयोग
 जिला कलेक्टर कुमार पाल गौतम ने कहा बीकानेर साम्प्रदायिक सौहार्द की विरासत का शहर है । यहां पर लोग एक दूसरे की मदद के लिए सदैव तत्पर रहते हैं । उन्होंने कोरोना की जंग में अधिक सक्रिय होकर एक दूसरे की मदद के लिए आगे आने तथा दूसरों को भी इसके लिए प्रेरित करने की अपील की। उन्होंने कहा कि इस जंग को जीतने में शहरवासियों का ही सबसे बड़ा योगदान रहेगा। चिकित्सा  पुलिस व सामाजिक संस्थाओं के पदाधिकारी जो मानवीय संवेदना के साथ काम कर रहे हैं उनका सम्मान करें और उनको भरपूर सहयोग देवें। लालेश्वर महादेव मंदिर के अधिष्ठाता सोमगिरि महाराज ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि हम गंगा जमुनी तहजीब के लोग हैं, जिन्होंने समूचे विश्व में सद्भाव  का संदेश दिया है। किसी भी परिस्थिति में  एक दूसरे के प्रति सम्मान का भाव रखते हुए सहयोग करते रहे है । रानी बाजार गुरुद्वारा के बलविंदर सिंह संधू ने कहा कि धार्मिक एकता और अखंडता इस शहर की पहचान रही है जिस पर हमें  कोई आंच नहीं आने देनी है। जरूरत है कि हम संगठित और मजबूती के साथ सबकी मदद के लिए आगे आएं। शहर काजी मुस्ताक अहमद ने कहा कि प्रशासन मुस्तैदी के साथ काम कर रहा है सबका सहयोग कर रहा है तो हमारा भी दायित्व बनता है कि हम इस घड़ी में एक सहयोगी की भूमिका में रहें। रोमन कैथोलिक चर्च के फादर एल्विन ने बीकानेर शहर की प्रशंसा करते हुए कहा कि उन्होंने ऐसा सौहार्दपूर्ण वातावरण वाला शहर नहीं देखा , जहां जब भी कोई विपत्ति आती है तो सभी एकजुट होकर भाई भाई की तरह सहयोग करते हैं। इसी पहचान को कायम रखना है। शांति मिशन की एसडी शांति ने कहा कि हमारा यह कर्तव्य है कि हम प्रशासन के निर्देशों को माने जो दिन रात एक कर के हमारी सुरक्षा कर रहे हैं, जरूरतमंदों की सेवा कर रहे हैं तो हमें एकजुटता का परिचय देकर उनके इरादों को मजबूत करना है।

बीकानेर फाउंडेशन के कार्य अनुकरणीय
 जिला कलक्टर कुमार पाल गौतम ने कहा कि बीकानेर फाउंडेशन के पदाधिकारियों ने यह सिद्ध कर दिया कि फाउंडेशन की स्थापना के पीछे जो मूल भाव था, उस पर संकट की घड़ी में वक्त खरे उतरे हैं। दूसरों की मदद करने के लिए यूं तो पूरा बीकानेर ही अपने आप में एक मिसाल बना हुआ है। मगर बीकानेर फाउंडेशन जरूरतमंदों के लिए राशन सामग्री और गायों के लिए चारे का इंतजाम करके एक नई मिसाल बनाई है। यहां के भामाशाहों ने जरूरतमंद की मदद कर प्रशासन को कोरोना से लड़ने में परोक्ष रूप से सहयोग कर प्रशासन को सुदृढ़ बनाया। इसके लिए साधुवाद के पात्र हैं। यहां प्रशासन को यह नहीं सोचना पड़ा कि जरूरतमंद को खाना और खाद्य सामग्री मिलेगी या नहीं। बीकानेर के सभी भामाशाहों नेे राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और ऊर्जा एवं जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग मंत्री डाॅ. बी.डी. कल्ला  इस बयान पर मोहर लगा दी कि कोई भी व्यक्ति भूखा नहीं सोएगा। दानदाताओं ने उनकी इस बात को अमलीजामा पहनाया और देखते-देखते मदद के जो हाथ बढे उसके चलते हर जरूरतमंद तक भोजन और खाद्य सामग्री बराबर मिल रही है।
जिला कलक्टर कुमार पाल गौतम शुक्रवार को जैसलमेर राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित लक्ष्मी हेरिटेज में बीकानेर फाउंडेशन की ओर से खाद्य सामग्री और गायों के लिए चारे के वितरण के लिए रवाना हो रहे वाहनों को हरी झंडी  दिखाने  के अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में बोल रहे थे ।  उन्होंने कहा कि बीकानेर फाउंडेशन द्वारा आज जो प्रोग्राम किया गया है, इसमें  भारत सरकार द्वारा जारी एडवाइजरी की पालना करके एक नई मिसाल बनाई है। सभी लोगों ने सोशल डिस्टेंसिंग रखी और सभी सुरक्षा के उपाय किए हैं।
इस अवसर पर बीकानेर फाउंडेशन के कमल कल्ल्ला ने बताया कि हमारे सभी सदस्यों का यह मानना था कि जरूरतमंद व्यक्ति तक खाद्य सामग्री पहुंचे और जिला कलक्टर कुमार पाल गौतम के निर्देशन में यह कार्य किया गया। इसमें फाउंडेशन के सभी पदाधिकारी और सदस्यों सहित विभिन्न उद्योग संगठनों ने सहयोग किया। कमल कल्ला ने कहा कि 3  हजार 500 पैकेट का वितरण किया जा रहा है। अगर जिला प्रशासन द्वारा और जरूरत बताई गई तो वह भी उपलब्ध करवा दिया जाएगा। कल्ला ने बताया कि प्रत्येक पैकेट में आटा, चावल, दाल, तेल, पापड़, नमक, हल्दी, मिर्च और एक साबुन दिया गया है।
इस अवसर पर बुलाकी हर्ष, रमेश सिंघी, सतीश गोयल, शिबू बाबू, विजय नौलखा, जगत नारायण कला, बृजमोहन चांडक, रामगोपाल अग्रवाल, अमित अग्रवाल, हंसराज डागा, गोपाल व्यास, हरि किशन राठी, त्रिभुवन व्यास, अमित पुरोहित, देवेंद्र बिस्सा, देवेंद्र मिश्रा, सहित बड़ी संख्या में सामाजिक संगठन के पदाधिकारी उपस्थित थे