ALL राष्ट्रीय धार्मिक सामाजिक खेल
समाज के प्रति कर्तव्य को पूरा करे : देवेंद्रसागरसूरि
January 22, 2020 • SANJAY JOSHIY • धार्मिक

बेंगलुरु। आचार्यश्री देवेंद्रसागरजी  आडुगुडी तेरापंथ भवन में आयोजित धर्मसभा में अपने प्रवचन में कहा की समाज के प्रति हमारा दायित्व बिल्कुल उसी तरह है जैसा कि हमारा अपने परिवार के प्रति दायित्व होता है। उन्होंने कहा कि हम जिस परिवार में जन्म लेते हैं, जिस परिवार में रहते हैं तो उस परिवार अर्थात उस परिवार के सदस्यों के प्रति हमारा कुछ दायित्व बनता है। चाहे वह माता-पिता हो, पत्नी, भाई-बहन या पुत्र-पुत्री आदि हों। आचार्यश्री बोले, समाज भी हमारे परिवार की तरह होता है। ये एक वृहद स्तर का परिवार अर्थात बहुत बड़ा परिवार होता है। जब हम किसी समाज में जन्म लेते हैं तो स्वतः ही हमें कुछ अधिकार प्राप्त हो जाते हैं। समाज हमें संस्कार देता है। जीवन को जीने की शैली सिखाता है। हमें अनुशासन में रहना सिखाता है। हमें नियमों के अनुसार आचरण करने की कला सिखाता है। हमें नैतिकता का पाठ पढ़ाता है। कुल मिलाकर समाज हमें असभ्य नागरिक से सभ्य नागरिक बनाता है, समाज में रहकर ही तो हम मानव से सभ्य मानव बनते हैं। जब समाज हमें इतना कुछ देता है तो हमारा ये परम कर्तव्य है कि समाज के प्रति अपने दायित्व को पूरी तरह से निभायें। हमें जो कुछ समाज से मिला है वो समाज को लौटायें। हमें जो शिक्षा मिली उस शिक्षा को आगे बढ़ायें, उन्होंने कहा कि हम किसी योग्य बने हैं तो हम कुछ ऐसे कार्यों को करें जिससे अन्य लोग भी आगे बढ़ सकें। हम सम्पन्न हैं तो अपने धन का सदुपयोग जरूरतमंदों और निर्धनों की मदद करके कर सकते हैं आखिर हमारी ये सम्पन्नता समाज की ही तो देन है। आचार्यश्री ने यह भी कहा कि हम ज्ञानी हैं तो उस ज्ञान का प्रसार करें ताकि और लोग भी उस ज्ञान से लाभान्वित हों। यदि हमारा समाज किसी विषय या मुद्दे पर कमजोर है या हमारे समाज में कोई कुरीति या बुराइयां पैदा हो गयी हैं तो हम अपने समाज को सुधारने की दिशा में कुछ प्रयास करने चाहिए। सरल शब्दों में कहें तो हम जो कुछ भी बनते है उसमें जितना योगदान हमारे परिश्रम को होता है उतना ही योगदान हमारे सामाजिक ढांचे का होता है। इसलिये समाज से हमें जो कुछ मिला है, उसे लौटाना हम सबका दायित्व है।