ALL राष्ट्रीय धार्मिक सामाजिक खेल
साध्वी संयमपूर्णाश्रीजी की पार्थिव देह पंच तत्व में विलीन
February 14, 2020 • SANJAY JOSHIY • धार्मिक

बीकानेर, 14 फरवरी। जैन श्वेताम्बर खरतरगच्छ संघ की वरिष्ठ साध्वी, विचक्षण ज्योति, प्रवर्तिनी चन्द्रप्रभा म.सा. की शिष्या साध्वीश्री संयमपूर्णाश्रीजी की पार्थिव देह को  शुक्रवार को जैन परम्परानुसार धार्मिक भावना के अनुसार पंच तत्व में विलीन किया गया।  ओसवाल समाज श्मशान भूमि व रांगड़ी चैक के सुगनजी महाराज का उपासरे और अंतिम यात्रा के रास्ते में बड़ी संख्या में श्रावक-श्राविकाओं साध्वीजी को नवंकार महामंत्र के जाप व जय-जय नंदा जय-जय भद््ा’’ के उदषोष के साथ अंतिम विदाई दी।
साध्वीजी गुरुवार को अरिहंतशरण हो गई थी। उनके पार्थिक देह की बैकुंठी जैन बहुल्य मोहल्लों से होते हुए श्मशान पहुंची। उनके पार्थिह देह को उनके सांसारिक भतीजे श्रीपाल कोठारी ने मुखाग्नि दी। विभिन्न जैन संघों के पदाधिकारियों व सदस्यों और बड़ी संख्या में श्राविकाओं ने भी अंतिम यात्रा में शामिल होकर अरिहंत शरण हुई साध्वी के प्रति श्रद्धा सुमन अर्पित किए।
सुगनजी महाराज का उपासरा ट्रस्ट के मंत्री रतन लाल नाहटा ने बताया कि साध्वीश्री संयमपूर्णाश्रीजी का बीकानेर में लगातार दूसरा चातुर्मास था। यह संयोग ही रहा कि साध्वीश्री का जन्म, दीक्षा व महाप्रयाण तीनों ही बीकानेर में ही हुए। नाहटा ने बताया कि संयमपूर्णाश्रीजी का जन्म भादवा सुदी अष्टमी विक्रम संवत 2014 को बीकानेर में सुश्रावक सोहन लाल कोठारी के यहां हुआ। इन्होंने अपनी माताश्री अंतर बाई से धार्मिक तथा मैट्रिक और साहित्य रत्न की एकेडमिक शिक्षा प्राप्त की। इन्होंने बीकानेर में माघ शुक्ला पंचमी विक्रम संवत् 2031 में विचक्षण ज्योति चन्द्रप्रभाजी म.सा. की सुशिष्या के रूप् में आचार्यश्री कैलाश सागरजी म.सा. से दीक्षा लेकर सुशीला कोठारी से संयमपूर्णा बन गई। संघ की ओर से कोकिल कंठी की उपाधि प्राप्त साध्वीश्री संयमपूर्णाश्रीजी की संगीत व भक्ति गायन में विशेष रूचि और विशिष्टता थीं। इन्होंने देश के प्रमुख शहरों में पैदल यात्राएं कर भगवान महावीर के सत्य, अहिंसा, ब्रह्मचर्य, अचैर्य, अपरिग्रह के सिद्धान्तों का प्रचार किया। अनेक तपस्याएं स्वयं की तथा श्रावक-श्राविकाओं से भी करवाई।
सुगनजी महाराज का उपासरा ट्रस्ट के मंत्री रतन लाल नाहटा, ट्रस्टी मनोज सेठिया, भीखमचंद बरड़िया, हेमंत खजांची, हस्तीमल सेठी,  श्री चिंतामणि जैन मंदिर प्रन्यास के अध्यक्ष निर्मल धारिवाल, मंत्री चन्द्र सिंह पारख, जैन श्वेताम्बर खरतरगच्छ संघ ट्रस्ट के मंत्री शांति लाल सुराणा, पदाधिकारी अशोक पारख, निर्मल पारख, कंवर लाल सेठिया, विचक्षण महिला मंडल की मूला बाई सामयिक मंडल की संतोष नाहटा, खरतरगच्छ युवा परिषद के सचिव मनीष नाहटा व अन्य पदाधिकारी वरिष्ठ श्रावक थानमल बोथरा, महावीर नाहटा, वरिष्ठ गायक सुनील पारख, खरतरगच्छ महिला परिषद की अध्यक्ष चारू नाहटा व मंत्री रेणु खजांची और पदाधिकारी, वद्ध्र्रमान नवयुवक मंडल के चन्द्र प्रकाश सुराणा, आयूष सेठी, मालचंद बेगानी, पदाधिकारियों, सदस्यों, जैन श्वेताम्बर तपागच्छ, पाश्र्चचन्द्रगच्छ, जैन श्वेताम्बर तेरापंथ, साधुमार्गी जैन संघों से जुड़े सदस्यों ने अंतिम यात्रा में शामिल होकर दिवंगत आत्मा की शांति की प्रार्थना की। अंतिम यात्रा में कोलकाता, पीपाड़, जयपुर, मुंबई सहित देश के विभिन्न इलाकों से आए श्रावक-श्राविकाओं ने भागीदारी निभाई।
जैनचार्य मणि प्रभ सूरिश्वरजी, पीयूष सागरजी, मनोज्ञ सागरजी, साध्वीश्री शशि प्रभा और देश के अनेक स्थानों पर विचरण कर रहे मुनियों व साध्वियों और खरतरगच्छ संघ के पदाधिकारियों ने स्थानीय संघों के पदाधिकारियों और उनकी सहवृृति साध्वी श्रद्धानिधि को भेजे संदेश में उनके आत्म कल्याण की कामना की।