ALL राष्ट्रीय धार्मिक सामाजिक खेल
राजस्थान में भी औद्योगिक विकास एवं निवेश को दें बढ़ावा: रीको डीजीएम अजय गुप्ता
January 21, 2020 • SANJAY JOSHIY • राष्ट्रीय

रीको द्वारा बेंगलूरु के उद्योगपतियों के साथ औद्योगिक संवर्द्धन अभियान के तहत सेमीनार आयोजित

आईवीएफ एवं राजगढ़ सादुलपुर नागरिक परिषद के संयोजन में हुआ कार्यक्रम

बेंगलूरु। राजस्थान स्टेट इंडस्ट्रियल डवलपमेंट एंड इन्वेस्टमेंट काॅर्पोरेशन लिमिटेड (रीको) ने यहां के होटल प्राइड में ‘राजस्थान में निवेश के अवसर’ विषयक एक औद्योगिक संवर्द्धन अभियान कार्यक्रम आयोजित किया। इंटरनेशनल वैश्य फेडरेशन (आईवीएफ) कर्नाटक एवं राजगढ-सादुलपुर नागरिक परिषद के संयुक्त संयोजन में हुए इस कार्यक्रम में आईवीएफ के स्टेट प्रेसिडेंट बिपिन राम अग्रवाल, परिषद के अध्यक्ष रतन कंदोई, रीको के उपमहाप्रबंधक अजय गुप्ता, प्रबंधक (वित्त) पवन दहिया, उपप्रबंधक (निवेश) अतुल शर्मा व वरिष्ठ उद्योगपति-समाजसेवी मुरारीलाल सरावगी ने मंच साझा करते हुए राजस्थान में अन्य राज्यों की अपेक्षा में उपलब्ध संसाधनों एवं विशेषताओं के विवरण सहित निवेश की अपार संभावनाओं के संबंध में एक विस्तृत प्रस्तुतिकरण दिया। अजय गुप्ता ने बताया कि राजस्थान में औद्योगीकरण को बढ़ावा देने के लिए राज्य सरकार द्वारा बीते वर्ष में नई औद्योगिक विकास नीति तथा निवेश प्रोत्साहन योजना जारी की गयी है। इसके साथ-साथ राज्य में अक्षय ऊर्जा क्षेत्र में निवेश को आकर्षित करने के लिए भी राजस्थान सरकार द्वारा सौर ऊर्जा एवं पवन ऊर्जा पर भी नीतियों के निर्धारण का कार्य जारी है। गुप्ता ने बताया कि राजस्थान में एम.एस.एम.ई. क्षेत्र के उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए जारी मुख्यमंत्री लद्यु उद्योग प्रोत्साहन योजना-2019 के अंतर्गत निवेश करने वाले उद्योगों को सावधि ऋण पर ब्याज अनुदान भी दिया जा रहा है। रीको द्वारा विकसित 348 औद्योगिक क्षेत्रों में उपलब्ध औद्योगिक, व्यावसायिक एवं संस्थानिक भूखण्डों का पारदर्शी आॅनलाइन ई-नीलामी के माध्यम से 99 वर्ष की लीज अवधि के लिए आंवटन किया जा रहा है। इसके अतिरिक्त आंवटित भूखंडों की भूमि की कीमत की बकाया 75 फीसदी कीमत को पांच वर्ष की अवधि में एक वर्ष के अधिस्थगन के साथ तिमाही किश्तों में दस फीसदी जमा करवाने के लिए भूमि वित्तीय सुविधा भी प्रदान की जा रही है। कार्यक्रम में बिपिन राम अग्रवाल ने सभी का स्वागत करते हुए कहा, राजस्थान में व्यापक स्तर पर विविध प्रकार के उद्योग स्थापित करने की संभावनाएं हैं, जरुरत हमारे प्रोसेस के फाॅलोअप करने की भी है। परिषद के अध्यक्ष रतन कंदोई ने भी जन्मभूमि सेऔद्योगिक जुड़ाव के लिए कदम बढ़ाने की बात कही। विभिन्न क्षेत्रों के लब्ध प्रतिष्ठित करीब 75 से अधिक उद्योगपतियों की मौजूदगी में सफलता के साथ हुए इस आयेाजन में अनेक प्रकार की शंकाओं का समाधान व प्रश्नौतरी सत्र के साथ संवाद साझा किया गया। साथ ही अपने वर्तमान में स्थापित उद्योगों के विस्तार एवं अन्य क्षेत्रों जैसे पत्थर, सिरेमिक्स, गारमेंट्स, कृषि, बिजली आधारित उद्योगों सहित सौर ऊर्जा में विविधीकरण की राजस्थान में इच्छा जाहिर की गई। इसी क्रम में दहिया एवं शर्मा ने बताया कि शीघ्र ही बेंगलूरु का एक दल राजस्थान में निवेश की संभावनाओं के मद्देनजर चर्चा-विस्तृत संवाद हेतु जयपुर जाएगा। दीप प्रज्वलन के साथ शुरु हुए कार्यक्रम में अतिथियों का रीको अधिकारियों ने जबकि रीको अधिकारियों का अग्रवाल व कंदोई ने मेमेंटो भेंट कर सत्कार किया। कार्यक्रम में आईवीएफ कर्नाटक के महासचिव संजीव बंसल, कार्यकारी सचिव रितु अग्रवाल, परिषद के सचिव सचिन पांड्या, सतीश मित्तल ‘स्वास्तिक’, राजकुमार कंदोई, छाया गांधी, सुरेश जालान, संदीप अग्रवाल, रतन सिंघल, सुरेश मोदी, नरेश गुप्ता, नीरज बंसल सहित बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे। सभी का आभार अतुल शर्मा एवं सचिन पांड्या ने जताया।