ALL राष्ट्रीय धार्मिक सामाजिक खेल
परमात्म स्वरुप गुरु में आस्था भक्ति बरकरार रखें : राष्ट्रसंत डॉ वसंतविजयजी
December 29, 2019 • SANJAY JOSHIY • धार्मिक

कष्ट निवारक चमत्कारिक महामांगलिक ने किया सैकड़ों को लाभान्वित..

दाहोद। तमिलनाडु प्रांत के जग विख्यात श्री पार्श्वपद्मावती शक्तिपीठधाम कृष्णागिरी के पीठाधीपति राष्ट्रसंत, सिद्धि सम्राट डॉ वसंतविजयजी महाराज साहेब ने यहां अपनी दिव्य महामांगलिक से बड़ी संख्या में सर्व समाज के लोगों के आधिव्याधि, कष्ट, बीमारियों का निदान किया व सुख-समृद्धि, संपन्नता के गुर सिखाते हुए आशीर्वाद दिया। श्री सीमंधर स्वामी जैन तीर्थ दाहोद के तत्वावधान में संतश्रीजी ने अपनी सुरमयी भजन-भक्ति की एक से बढ़कर एक बेहतरीन प्रस्तुतियों से श्रद्धालुओं को झूमने पर मजबूर कर दिया। आयोजन से जुड़े नवकार ग्रुप के दिव्य चोपड़ा ने बताया कि इस अवसर पर डॉ वसंतविजयजी म.सा. ने अपने प्रवचन में कहा कि "मेरा सदैव शुभ भला होगा, परमात्मा अथवा गुरुवर मेरे साथ है वही मेरा सब काम अच्छा करेंगे।" इन भावों को पूर्ण विश्वास के साथ व्यक्ति अपने जेहन में रखे तो उसे अवश्य सफलता मिलती है तथा व्यक्ति प्रगति पथ पर बढ़ने की ओर अग्रसर होता है। उन्होंने कहा कि प्रकृति के नियमों में हर चीज निर्धारित है। आज गुरु अथवा परमात्मा की शक्ति कितनी है इसे नहीं, बल्कि एक श्रद्धावान को स्वयं के पूर्ण आस्था एवं विश्वास को महसूस करने की जरूरत है। सिद्धिसम्राट संतश्रीजी ने कहा कि लोगों में भक्ति की कमी नहीं है, विश्वास की कमी है। विश्वास होगा तो परमात्मा को साक्षात प्रकट होकर भक्तों की हर इच्छा को पूर्ण करना ही पड़ेगा। कार्यक्रम में नगरपालिका दाहोद के चेयरमैन अरविंद चोपड़ा, मितेश तलेसरा, भूपेंद्र चोपड़ा, राहुल सुराणा, दर्शन चोपड़ा, अर्पित डोसी, आदित्य चोपड़ा व विशाल चोपड़ा आदि ने सेवा सहयोग में योगदान दिया। दिव्य चोपड़ा ने बताया कि राजेंद्र करणपुरिया एवं टीम ने संचालन किया। 

"ट्वेंटी-ट्वेंटी" का आगाज डॉ वसंतविजयजी म.सा.की महामांगलिक से

 दाहोद। अंग्रेजी नूतन वर्ष पर ना पार्टी, ना हुड़दंगी म्यूजिक और ना ही तामसिक भोजन! सिर्फ संगीतमय प्रभु भक्ति और महामांगलिक। जी हां, 31 दिसंबर की रात्रि एवं नववर्ष के आगमन पर भैरवदेव के पावन धाम श्री नाकोड़ा तीर्थ में सानिध्य मिल जाए राष्ट्रसंत डॉ वसंतविजयजी महाराज साहेब का तो फिर निश्चित ही भाग्योदय के साथ सोने पर सुहागा होना ही है। बीते कई वर्षों से नाकोड़ा तीर्थ धाम में भैरवदेव के सिद्ध साधक, कृष्णगिरी शक्तिपीठाधिपति, मंत्र शिरोमणि डॉ वसंतविजयजी की निश्रा में यह दिव्य महामांगलिक व भैरव भक्ति का भव्य आयोजन 31 दिसंबर की रात्रि 9:00 बजे से होता है, इस बार भी संतश्रीजी की पावन निश्रा हजारों श्रद्धालुओं को लाभान्वित करेगी जब डॉ वसंतगुरुजी सिद्ध बीज मंत्रों से अभिमंत्रित समृद्धिदायक, आधिव्याधि संकटनाशक व सर्वदोष निवारक महामांगलिक प्रदान करेंगे। नवकार ग्रुप के दिव्य चोपड़ा ने बताया कि श्री जैन श्वेतांबर नाकोड़ा पार्श्वनाथ तीर्थ मेवानगर-बालोतरा के तत्वावधान में यह आयोजन मंगलवार रात्रि 9:00 बजे से अल सुबह 2:00 बजे तक होगा। दिव्य चोपड़ा ने अपील की है कि अधिकाधिक संख्या में नूतन वर्ष के प्रथम दिवस पर अपने जीवन में आध्यात्मिक ऊर्जा का संचार करने के लिए नाकोड़ा तीर्थ धाम पहुंचे। उन्होंने बताया कि कार्यक्रम का सीधा प्रसारण पारस चैनल पर होगा।