ALL राष्ट्रीय धार्मिक सामाजिक खेल
नो कोरोना ; जयमल जैन श्रावक संघ सहित इससे जुड़ी अनेक संस्थाओं द्वारा आपदा की घड़ी में जरूरतमंदों को दी जा रही है राशन सामग्री
April 9, 2020 • Just Rajasthan Team • राष्ट्रीय

जोधपुर। श्री अखिल भारतीय श्वेताम्बर स्थानकवासी जयमल जैन श्रावक संघ, जेपीपी. अहिंसा रिसर्च फाउंडेशन, जेपीपी. जैन ग्रुप्स इंडिया के तत्वावधान में वैश्विक स्तर पर कोरोना महामारी के भीषण प्रकोप को दृष्टिगत रखकर आपदा पीड़ितों की सहायतार्थ चल रही योजना के अंतर्गत जोधपुर में उक्त समस्त संस्थओं के पदाधिकारियों व सदस्यों ने 100 किट संघ के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष देवराज बोहरा, राष्ट्रीय मंत्री गौतमचंद खिंवसरा, जेपीपी जैन महिला फाउंडेशन की राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमती सुशीला कांकरिया, वरिष्ठ श्रावक पुखराज बोहरा एवं महिला बाग संघ के मंत्री माणकराज ललवाणी, महामंदिर संघ के अध्यक्ष बाबूलाल कोठारी मंत्री कानमल छाजेड़, नॉर्थ ईस्ट जोन के अध्यक्ष मनमोहन घियां, मंत्री सुभाषचन्द्र बोहरा साउथ वेस्ट जोन के अध्यक्ष राजेंद्र लूणीया, मंत्री राजेंद्र कटारिया, जेपीपी अहिंसा रिसर्च फाउंडेशन के मंत्री रवि बोहरा, जेपीपी जैन महिला फाउंडेशन जोधपुर अध्यक्ष श्रीमती संगीता कांकरिया, नरेंद्र श्यामसुखा, मनोज बोहरा, श्रीमती लीला लूणिया, निर्मला कोठारी, सत्यम पारख सहित अनेक श्रावक-श्राविकाओं द्वारा वितरित किये जा रहे हैं। इसी के साथ संघ के ही तत्वावधान में रणसीगांव में गौतमचंद कटारिया ने 25 किट, खेजड़ला में चैनराज गांधी ने 25 किट, रियां सेठां की में गौतमचंद मुथा ने 25 किट, सेवकी में विमलकुमार सुराणा ने 25 किट, बुचेटी में हीरालाल चोपड़ा ने 25 किट, साथिन में दिनेश छाजेड़ ने 25 किट सोशियल डिस्टेन्सिंग की पालना करते हुए वितरित किये। ब्यावर में संघ के कार्यकर्ताओं द्वारा 1200 भोजन के पैकेट का वितरण प्रतिदिन हो रहा है। श्री अखिल भारतीय श्वेताम्बर स्थानकवासी जयमल जैन श्रावक संघ, जेपीपी. अहिंसा रिसर्च फाउंडेशन, जेपीपी. जैन ग्रुप्स के द्वारा कुल 3516 किट अभी तक वितरित कर दिये गए हैं। एक किट की लागत करीब 700 रुपये आ रही है, लेकिन दुकानदारों ने भी संघ के इस सेवा कार्य की सराहना करते हुए 600 रुपये के हिसाब से राशि ली। उक्त किट में 10 किलो आटा, 1 किलो शक्कर, 1 लीटर तेल, 1 किलो मिक्स दाल, 1 किलो नमक, 200 ग्राम मिर्ची, 100 ग्राम धनिया, 100 ग्राम हल्दी, चाय पत्ती एवं साबुन है।