ALL राष्ट्रीय धार्मिक सामाजिक खेल
निशुल्क चिकित्सा शिविर 425 ने लिया चिकित्सा का लाभ, मंत्री डॉ बीडी कल्ला भी रहे मौजूद
January 31, 2020 • SANJAY JOSHIY • राष्ट्रीय


 
बीकानेर। बीकानेर जिला उद्योग संघ एवं बिहाणी परिवार के संयुक्त तत्वावधान में ऊर्जा एवं जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी मंत्री डॉ. बी.डी. कल्ला एवं हरिदेव जोशी पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय जयपुर के कुलपति ओम थानवी के सान्निध्य में सुमित्रा देवी सीताराम बिहाणी की स्मृति में निशुल्क चिकित्सा शिविर आयोजित किया गया। डॉ. बीडी. कल्ला ने बताया कि बिहाणी परिवार द्वारा निशुल्क चिकित्सा का आयोजन कर गरीब लोगों के इलाज के लिए जो शिविर लगाया है वह अनुकरणीय व और प्रेरणादायक है | ओम थानवी ने बताया कि प्रत्येक मानव में ईश्वर का वास होता है और बिहाणी परिवार द्वारा इस तरह का आयोजन नर सेवा नारायण सेवा का एक अनूठा उदाहरण है। आयोजन समिति के अध्यक्ष द्वारकाप्रसाद पचीसिया ने बताया कि सर्जरी हेतु 3 मरीज भी पंजीकृत हो चुके हैं जिनकी सम्पूर्ण जांच के बाद निशुल्क ओपरेशन भी किये जायेंगे। निशुल्क चिकित्सा शिविर में 175 व्यक्तियों की बीएमडी, दांतों का एक्सरे, ईसीजी आदि जांच एवं 250 रोगियों को परामर्श दिया गया। दंत चिकित्सा शिविर में डॉ. विनोद बिहाणी, डॉ. उर्वशी बिहाणी, डॉ. मुकेश आहूजा, डॉ तनवी बिहाणी, डॉ. विनीत द्वारा निशुल्क दांतों का एक्सरे, दांत निकालने की भी सेवाएं प्रदान की गई। हृदय रोग के लिए डॉ. देवेन्द्र अग्रवाल अपनी सेवाएं दी और ई.सी.जी. की निशुल्क व्यवस्था की गई। शिशु एवं बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. केएल. पेडीवाल एवं सहयोगी के रूप में डॉ. कुसुम पेडिवाल अपनी सेवाएं दी। बाल रोगियों की आवश्यकतानुसार खून की जांच भी निशुल्क की गई। गुर्दा रोग विशेषज्ञ डॉ. कर्मवीर गोदारा द्वारा परामर्श सेवाएं दी गई साथ ही गुर्दा रोगियों के लिए आवश्यक खून की जांचों की भी निशुल्क सुविधा भी उपलब्ध करवाई गई। आयोजन सचिव डॉ. विनोद बिहाणी ने बताया कि शिविर में स्पाइन रोगों जैसे साइटिका, कमर में फेक्चर, स्पाइनल टीबी, सर्वाइकल स्पोंडीलोसिस, कमर दर्द, पैरों में दर्द आदि का इलाज डॉ. मोहित बिहाणी, स्पाइन सर्जन एवं उनके सहयोगी डॉ. माधविका बिहाणी, डॉ. हर्षिता बिहाणी व अन्य चिकित्सकों द्वारा सेवा प्रदान की गई। साथ ही हड्डियों की जांच हेतु 3 मशीनें लगाई गई जिसमें विशेष तौर पर कलाई की अत्याधुनिक पद्धति से कलाई की हड्डी का घनत्व की जांच की गई।