ALL राष्ट्रीय धार्मिक सामाजिक खेल
कालाबाजारी की तो वायरल हो जाएगी ये काली करतूत, कलेक्टर गौतम ने आमजन से की आर्थिक सहयोग की अपील
March 26, 2020 • SANJAY JOSHIY • राष्ट्रीय

बीकानेर, 26 मार्च। जिला कलक्टर कुमार पाल गौतम ने कहा कि आवश्यक वस्तुओं की कालाबाजारी कत्तई बर्दाश्त नहीं की जाएगी। पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी लगातार शहर में भ्रमण कर दुकानों पर आवश्यक वस्तुओं की वसूल की जा रही कीमतों के बारे में जानकारी लेंगे। आमजन की शिकायत पर, सत्यापन होते ही, तत्काल कालाबाजारी करने वालों के विरूद्ध एफ.आई.आर. दर्ज करने के साथ-साथ सामाजिक रूप से भी उनकी इस छवि को बताने के लिए फोटो सोशल मीडिया पर वायरल किए जाएंगे। उन्होंने निर्देश दिए कि पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी यह भी सुनिश्चित करें कि आवश्यक सामान खरीदने के लिए आने वाले लोगों को परेशानी ना हो, विशेषकर दवा, परचून का सामान, दूध सहित अन्य आवश्यक सामान खरीदने वालों को परेशान न किया जाए। अगर कोई व्यक्ति बेवजह सड़क पर घूमते दिखे तो उसके विरुद्ध कार्रवाई होगी । उन्होंने सभी परचून विक्रेता और राशन विक्रेताओं से कहा कि वे अपनी दुकान के बाहर अपना मोबाइल नंबर और व्हाट्सएप नंबर रखें तथा सामान घर पहुंचाने की भी व्यवस्था करें। इस संबंध में जिला कलक्टर एव जिला मजिस्ट्रेट कुमार पाल गौतम ने एक आदेश जारी कर डिजास्टर मैनेजमेन्ट एक्ट 2005 तथा राजस्थान एपिडैमिक डिजीज एक्ट 1957 की धारा 2 में प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए जिले में स्थित सभी खुदरा किराना विक्रेताओं को उनके प्रतिष्ठान पर मोबाईल नम्बर एवं वाट्सएप नम्बर प्रदर्शित करने तथा उपभोक्ताओं की मांग पर कीमतन खाद्य सामग्री की होम डिलीवरी सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं। आदेश की अवहेलना व निर्धारित कीमत से अधिक वसूली पर भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के तहत कार्यवाही की जाएगी। 
गौतम गुरुवार को नगर विकास न्यास के सभागार में कोरोनावायरस को महामारी घोषित किए जाने के बाद लॉक डाउन की स्थिति से निपटने के लिए गठित प्रकोष्ठ प्रभारियों की बैठक में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी दुकानदारों को यह भी बता दें कि वह 7 दिन में सामान्यतः भोजन के लिए उपयोग में आने वाली सामग्री के पैकेट बना लें और उन्हें बाजार दर पर बेचें। अगर कोई व्यक्ति उन्हें फोन या व्हाट्सएप करता है तो दुकानदार वहां तक भी पहुंचाए, इसमें किसी तरह का अतिरिक्त चार्ज नहीं होगा। बाजार दर पर ही सामान उपलब्ध करवाने की जिम्मेदारी दुकानदार की होगी। अगर इसमें किसी तरह की गड़बड़ी हुई तो दुकानदार के विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि होम डिलीवरी की सुविधा विकसित की जाए और इसमें जो भी व्यक्ति लेकर जाता है, उसे पुलिस द्वारा नहीं रोका जाए, इसके लिए दुकानदार जहां से जा रहा है और जिस स्थान पर जा रहा है, उसका सबूत अपने पास रखे। वह दिखाने पर होम डिलीवरी करने वाले व्यक्ति को नहीं रोका जाएगा।
सामाजिक संस्थाएं कर रही है आगे बढ़कर सहयोग
जिला कलक्टर ने कहा कि इस परिस्थिति में बीकानेर के सभी सामाजिक संगठन और आमजन जो सहयोग कर रहे हैं, वह भी अपने आप में एक मिसाल है। 15 से अधिक स्वयंसेवी संस्थाओं ने आज एक बार फिर यह विश्वास दिलाया कि लाॅकडाउन के चलते जिन लोगों को भोजन की उपलब्धता में दिक्कत आ रही है, उन्हें हम लगातार भोजन के पैकेट और राशन सामग्री जरूरत के मुताबिक उपलब्ध करवाते रहेंगे, साथ ही आवश्यक धनराशि भी जिला प्रशासन द्वारा बनाए गए खाते में जमा करवाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ेंगे। सामाजिक संस्थाओं और भामाशाह के साथ आयोजित बैठक में पदाधिकारियों ने कहा कि हमें संख्या बता दें और सही व्यक्ति तक राशन पहुंच जाए, इसकी समुचित व्यवस्था कर दें। भोजन के पैकेट जितने चाहिए, उपलब्ध करवा दिए जाएंगे।
4 सदस्य कमेटी चिन्हित करेगी जरूरतमंद को
जिला कलक्टर ने बताया कि सामाजिक संस्थाओं और भामाशाह द्वारा उपलब्ध करवाए जा रहे भोजन के पैकेट जरूरतमंद व्यक्ति तक तत्काल पहुंच जाए, इसके लिए 4 सदस्य कमेटी का गठन किया गया है। इसमें एक राजकीय कर्मचारी या अधिकारी के अलावा पार्षद, एक वह व्यक्ति जो पार्षद के चुनाव में लड़ा था और दूसरा सामाजिक कार्यकर्ता इन चार व्यक्तियों द्वारा सूची बनाकर जिला रसद अधिकारी को उपलब्ध करवा दी जाएगी। इसी के आधार पर स्वयंसेवी संस्थाओं से प्राप्त हो रहे भोजन के पैकेट इन्हें उपलब्ध करवा देंगे।
बीएलओ करेंगे चिन्हित
जिला कलक्टर ने बताया कि इस 4 सदस्य कमेटी के अतिरिक्त सभी बीएलओ को भी यह जिम्मेदारी दी गई है कि वे अपने-अपने क्षेत्र में जाकर पूरा भ्रमण करें और वहां जितने भी ऐसे परिवार हैं, जिन्हें भोजन की जरूरत है, उसकी सूची बनाकर तत्काल प्रशासन को उपलब्ध करवाई जाए। गौतम ने कहा कि इन संपूर्ण व्यवस्थाओं के पीछे प्रशासन की मंशा है कि एक भी व्यक्ति भूखा ना सोए या कोई परिवार ऐसा ना हो जहां राशन सामग्री न होने के कारण भोजन ना पके। भोजन के पैकेट और राशन सामग्री दोनों ही जरूरत के मुताबिक आवश्यक रूप से पहुंच जाए इसमें कोई कोर कसर नहीं छोड़ी जाएगी।
बैठक में यह थे उपस्थित
अतिरिक्त जिला कलक्टर (प्रशासन) ए.एच.गौरी, आयुक्त नगर निगम खुशाल यादव, अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट (नगर) सुनीता चैधरी, जिला रसद अधिकारी यशवंत भाकर, नगर विकास न्यास के सचिव मेघराज सिंह मीणा, क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी ज्ञानदेव विश्वकर्मा, पी.बी.एम. चिकित्सालय के अधीक्षक पी.के.बेरवाल, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी बी.एल.मीणा एवं उप निदेशक सूचना एवं जनसम्पर्क, महावीर रांका कन्हैयालाल बोथरा रोटरी क्लब के राॅटरी क्लब मरूधरा के संयोजक आनन्द आचार्य, राहुल माहेश्वरी, कैलाश कुमावत, भतमाल पेड़ीवाल(रोग निदान केन्द्र), के.एल.बोथरा, लोटस डेयरी के अशोक मोदी, डॉ सत्यप्रकाश आचार्य, रेड क्रॉस सोसाइटी के विजय खत्री, अनिल सोनी, जेठानंद व्यास, पीबीएम हॉस्पिटल कमेटी के सुरेंद्र राजपुरोहित खेतेश्वर सेवा समिति, मोहन सुराणा रोग निदान केंद्र के प्रबंधक जुगल राठी सहित विभिन्न स्वयंसेवी संस्थाओं के पदाधिकारी उपस्थित थे।
जिला कलक्टर की लाॅकडाउन के दौरान आमजन से आर्थिक सहयोग की अपील
जिला कलक्टर कुमार पाल गौतम ने एक खाता संख्या जारी कर बीकानेर जिले के निवासियों से लाॅकडाउन के दौरान आर्थिक मदद की अपील की है। उन्होंने अपील में कहा कि जिला प्रशासन द्वारा कोराना महामारी को देखते हुए लाॅक डाउन के दौरान जरूरतमंद परिवारों के लिए राशन सामग्री किट अथवा बना हुआ खाना वितरित किया जा रहा है। अतः सभी से विनती है कि आप भी इस पुनीत कार्य में आगे आएं और मदद की राशि पेटीएम, गूगल-पे, भीम एप, अमेजन पे के माध्यम से अथवा नकद, बैंकर चैक, बैंक ड्राफ्ट आदि के माध्यम से बैंक खाते में जमा करवाएं। इसके लिए सचिव, नगर विकास न्यास, बीकानेर के खाता संख्या 023401004604, आईसीआईसीआई बैंक, रानीबाजार ब्रांच, (आईएफएससी कोड ICIC0000234) में राशि जमा करवाई जा सकती है अथवा नगर विकास न्यास सचिव मेघराज सिंह मीणा से संपर्क किया जा सकता है। 
जिला कलक्टर की अपील का हुआ असर
जिला कलक्टर की अपील का असर भी देखने को मिला, जब अपील जारी होते ही सुसवाणी माताजी मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष सुरेश राज सुराणा, सचिव मोहन सुराणा और ट्रस्टी डी.सी.सुराणा ने कोरोना महामारी के दौरान लाॅकडाउन में सहयोग के लिए ट्रस्ट की तरफ से 5 लाख रूपये की आर्थिक सहायता जिला प्रशासन को देने की घोषणा की। रैड क्राॅस सोसायटी के विजय खत्री द्वारा भी अपील जारी करते ही जिला कलक्टर को 51 हजार रूपये का चैक भेंट कर दिया गया तथा न्यास सचिव ने बताया कि न्यास के सभी कर्मचारियों का एक दिन का वेतन भी आर्थिक सहायता के रूप में जिला कलक्टर द्वारा जारी खाते में जमा करवाया जाएगा। 
खाद्य सामग्री के वाहनों के आवागमन पर प्रतिबंध नहीं
जिला मजिस्ट्रेट कुमार पाल गौतम ने कहा कि कोरोना वायरस के कारण लाॅकडाउन के दौरान खाद्य सामग्री के वाहनों के आवागमन पर कोई प्रतिबंध नहीं है। 
गौतम ने बताया कि अपने क्षेत्र में व्यापारियों, किसानों और ट्रक आॅपरेटर्स को आश्वस्त करें कि मालवाहक वाहनों को कहीं रोका नहीं जायेगा। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार स्तर पर भी इस बारे में द्वारा भी स्पष्ट आदेश जारी कर दिए गए हैं।