ALL राष्ट्रीय धार्मिक सामाजिक खेल
बेंगलुरु के सेवाभावी कुमार के नेतृत्व ने गौरवान्वित किया : रमेश मेहता
April 12, 2020 • Just Rajasthan Team • राष्ट्रीय

प्रतिदिन  15 हजार लोगों को पहुंचा रहे सुव्यवस्थित भोजन पैकेट्स

बेंगलूरु। विश्वव्यापी कोरोना महामारी के चलते देशव्यापी लाॅकडाउन है, ऐसे में अनेेक जरुरतमंदों की मदद के लिए बड़ी संख्या में भामाशाह व समाजसेवी संस्थाएं क्रियाशील हैं। बेंगलुरु शहर के गोड़वाड़ भवन में भी बीते कई दिनों से समाजसेवी भामाशाह लाभार्थी दिनेश रांका के सौजन्य से गोड़वाड़ भवन से भोजन बनवाकर पैकेट्स वितरण का कार्य सुचारु रुप से जारी है। राजस्थान संघ कर्नाटक के फाउण्डर चेयरमैन रमेश मेहता व दिनेश सोलंकी गोडवाड़ भवन पहुंचे। उन्होंने बताया कि निश्चित ही आज के समय में धन देने वालों की कहीं कमी नहीं होगी। मगर निस्वार्थ भाव से सेवाएं देने वाले लोगों में डॉ कुमारपाल सिसोदिया जैसे व्यक्तित्व का नाम अनुकरणीय है। वाकई, आज जब संक्रमणनुमा महामारी कोरोना के भय से लोग डरे हुए हैं, ऐसे में निर्भय  'कुमार'  सेवा भाव में तन्मयता से लगे हुए हैं और आज इस विपदा की घड़ी में कुमारपाल सिसोदिया जैसे ही व्यक्ति की सख्त आवश्यकता है। वे सच मे हैँ तो एक मगर अपने आप में अनेक व्यक्तियों के समान है। जो कि  इस महामारी के दौर में निस्वार्थ भाव से अनवरत रुप से प्रातः 5 बजे से देर शाम तक लोगों को तय समय में भोजन बनवाकर उसकी व्यापक स्तर पर सुव्यवस्थित आपूर्ति के क्रम में पूरी कमांड के साथ अपनी सेवाएं देकर पुनवानी की वृद्धि रहे हैं। गोड़वाड़ भवन के ऊर्जावान, दबंग ट्रस्टी कुमारपाल सिसोदिया के प्रभावी व्यक्तित्व का उल्लेख करते हुए मेहता ने बताया कि उनके नेतृत्व में एवं निर्देशन में यहां से प्रतिदिन करीब 15 हजार लोगों के लिए खाने के पेकेट्स बनवाकर जरुरतमंद लोगों में बंटवाया जा रहा है। बेहद सुरक्षात्मक, व्यवस्थित व संक्षिप्त लोगों के द्वारा किया जाने वाला यह कार्य निश्चित ही अनुकरणीय व अनुमोदनीय है।रमेश मेहता ने यह भी कहा कि निम्न आय वर्ग अथवा गरीब तबके के सर्वसमाज के समस्त जरुरतमंद लोगों के लिए संकट की इस घड़ी में सेवाऐ देने वाले इस संपूर्ण आयोजन में सेवाभावी डॉ कुमारपाल सिसोदिया व रमेश चंदावत की पूरी टीम द्वारा राष्ट्रहित के साथ-साथ सामाजिक स्तर पर दिये जाने वाले अमूल्य योगदान पर वाकई वे तो साधुवाद के पात्र है ही, हम सब भी ऐसे समाज गौरव की अनुभूति से गौरवान्वित हैं।